Footer

LovE❤️ is DovE❤️???






 𝑳𝒐𝒗𝑬❤️𝒊𝒔𝒛𝒛𝒛???



प्रेम दो दिलों का संगम है जिसमें दो दिल परस्पर एक हो जाते हैं और ना केवल वह दिल से बल्कि संपूर्ण रूप से वह एक दूसरे के होते हैं 


आज के समय में प्रेम की अलग-अलग परिभाषाएं दी जाती हैं उनमें से हम आपको कई सारी परीभाषाओं  के बारे में बताएंगे
कोई कहता है दो शरीरों का मिलना तथा एक हो जाना ही प्रेम है तो कई कहते हैं की संपूर्ण रुप से एक दूसरे में मिल जाना ही और उसी योग रूप को ही प्रेम की संज्ञा दी है 

कई लोग इस परिभाषा से मेल नहीं खाते हैं तो वह कहते हैं की प्यार तो धोखा है परंतु यह सब कहने के बावजूद वह कई बार प्यार करते हैं और धोखा भी खाते हैं


 यूं तो अलग-अलग परिभाषाएं हमने आपको बताएं पर उन सब में एकदम बेस्ट क्वालिटी की जो डेफिनिशन है उसमें लव इज ब्लाइंड बताया है क्योंकि जब प्यार होता है तो


इंसान को स्वयं की अनुभूति होना बंद हो जाती है और वह केवल और केवल उस सामने वाले इंसान को ही देखने और मांगने लगता है बहुत उसी को अपना लक्ष्य बना लेता है और उसको पूरी तरह से प्राप्त करने के लिए उसके पीछे लग जाता है चाहे वह किसी भी तरह हो वह अपने घर परिवार से भी इसके लिए नाता तो लेता है और वह उस नर या मादा के लिए अपना सर्वस्व दान कर देता है और संपूर्णता है उसी की प्राप्ति में जुट जाता है जब तक कि वह वह मिल ना जाए और अंतत है उसको वह मिल जाने पर बाद में वह उसका साथ निभाने के लिए तैयार होता है पर उसमें भी कई बार वह मात खा जाता है और बाद में पछतावा होता है और सोचता है की वह इस अर्थहीन उद्देश्य के पीछे क्यों लग गया 



 
अगर वह इतना ही ध्यान अपने अन्य लक्ष्य में लगाता तो शायद वह सफलता को प्राप्त कर लेता परंतु लैंगिक प्रेम एक ऐसी भ्रांति है जिसमें आदमी चाहता है फिर भी उसको मिल नहीं पाता है और वह नर या मादा नर या मादा के लिए अपना भूत वर्तमान और भविष्य सब कुछ कुर्बान कर देता है और आजकल का प्रेम वह केवल और केवल लैंगिक आनंद की अनुभूति के लिए हो गया है वह केवल शारीरिक प्रेम कर संतुष्टि को प्राप्त करता है और फिर से दूसरे सारे प्रेम के लिए फिर निकल पड़ता है और 


 ऐसे ही उसका संपूर्ण जीवन पानी की तरह बहता चला जाता है और अंत में अपना सब कुछ खो देता है 




दोस्तों अगर सही मायने में अगर प्रेम को देखा जाए तो उसमे ना तो कोई शर्त है और ना ही कोई अटैचमेंट वह केवल और केवल शरीर से का शरीर से ना होकर भावनाओं का है और हृदय का है 


जानिए और भी ऐसी मजेदार बातें सिर्फ shaleshyadav.com पर। 




आपका कोई भी प्रश्न या कोई भी जानकारी आप चाहते हैं तो अभी हमें कमेंट करके बताएं आपकी सभी तरह की समस्याओं का समाधान हमारे पास है बस जुड़े रहे हमारे साथ दोस्तों।





Post a Comment

0 Comments